आम आदमी को बड़ी राहत, 6 महीने में पहली बार घटी महंगाई

http://hindi.news18.com/news/business/retail-inflation-dips-in-july-in-last-six-months-2321845.html
BYNews18Hindi Updated: August 13, 2019, 8:31 PM IST
जुलाई महीने में कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (CPI) यानी रिटेल इंफ्लेशन (Retail Inflation) यानी खुदरा महंगाई में पिछले छह महीनों में राहत मिली है. जुलाई में खुदरा महंगाई 3.15 फीसदी रही है. जून महीने में CPI 3.18 फीसदी थी. मंगलवार को सेंट्रल स्टैट्स्टिक्स ऑफिस (CSO) की ओर से जारी किए गए प्राइस डेटा में ये आंकड़ें आए हैं. CSO ने बताया कि फूड आइटम्स के महंगा रहने के बावजूद रिटेल इंफ्लेशन कम हुआ है. जून में 8 महीने में सबसे ज्यादा थी महंगाई जून में रिटेल महंगाई 3.18 के साथ अपने आठ महीने की सबसे ज्यादा ऊंचाई पर थी. वहीं, जून, 2018 में जुलाई महीने में रिटेल इंफ्लेशन 4.17 फीसदी था. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़े के अनुसार खाद्य वस्तुओं की महंगाई दर जुलाई में 2.36 प्रतिशत रही जो इससे पूर्व महीने में 2.25 प्रतिशत से थोड़ा अधिक है. सब्जियों की खुदरा महंगाई दर घटी केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़ों के मुताबिक, जुलाई के दौरान सब्जियों की खुदरा महंगाई माह दर माह आधार पर घटकर 2.82 फीसदी पर आ गई, जो जून में 4.66 फीसदी पर थी. हालांकि दालों की खुदरा महंगाई बढ़कर 6.82 फीसदी हो गई, जो जून 2019 में 5.68 फीसदी थी. जुलाई में खाद्य पदार्थों की खुदरा महंगाई जून के 2.25 फीसदी से बढ़कर 2.36 फीसदी पर पहुंच गई. ये भी पढ़ें: यहां निवेश करने पर दो साल में डबल हो जाएगा आपका पैसा! Loading... अन्य सेक्टर्स का क्या रहा हाल जुलाई के दौरान फ्यूल एंड लाइट के लिए खुदरा महंगाई -0.36 फीसदी रही, जो जून 2019 में 2.32 फीसदी थी. हाउसिंग सेक्टर के मामले में खुदरा महंगाई जून के 4.84 फीसदी से बढ़कर 4.87 फीसदी पर पहुंच गई. क्लोथिंग एंड फुटवियर की खुदरा महंगाई जुलाई में बढ़कर 1.65 फीसदी हो गई, जो जून में 1.52 फीसदी पर थी. 6 महीने में पहली बार घटी महंगाई खुदरा महंगाई में पिछले छह महीनों में राहत मिली है. फरवरी में खुदरा महंगाई 2.57 फीसदी, मार्च में 2.86 फीसदी, अप्रैल में 2.99 फीसदी, मई में 3.05 फीसदी और जून में 3.18 फीसदी रही थी. 6 महीने बाद जुलाई में यह घटकर 3.15 फीसदी हुई. बता दें कि रिजर्व बैंक (RBI) का टारगेट लेवल 4 फीसदी पर है. इस महीने में भी महंगाई का लेवल इसके नीचे ही मेंटेन रहा है. सरकार ने भी बैंक को इंफ्लेशन को 4 फीसदी के रेंज के अंदर ही रखने को कहा है. ये भी पढ़ें: मोदी सरकार ने ग्राहकों को दिए ये अधिकार, अब बिना वकील आप लड़ सकते हैं केस