हनीमून पर भाइयों की मदद से पति ने किया था नाबालिग पत्नी के साथ रेप

http://hindi.news18.com/news/crime/eye-witness/justice-for-noura-story-of-african-girl-who-killed-rapist-husband-1445478.html
BYBhavesh SaxenaBhavesh Saxena | News18Hindi Updated: August 10, 2018, 12:23 PM IST
'मैं भी इंसान हूं, एक जीती-जागती लड़की, तुम्हारी गुलाम या जागीर नहीं जिसे तुम जब जैसे चाहो, इस्तेमाल करो. इस मुल्क ने न सही लेकिन कुदरत ने तो मुझे इंसान होने के सारे हक दिए हैं. मैं कमज़ोर सही लेकिन अपने अधिकारों के लिए आखिरी सांस तक लड़ूंगी.' यह कहने और सोचने की हिम्मत करने वाली नाबालिग नॉरा ने अपने बलात्कारी पति को मार डाला तो पूरी दुनिया में हंगामा मच गया. यह कहानी उस लड़की की है जिसने अपने सपनों, अपनी मर्ज़ी और अपनी सोच के लिए समाज और परंपराओं से समझौता करने से इनकार कर दिया. नॉरा बचपन से ही खूब पढ़ना लिखना चाहती थी और कानून की डिग्रियां लेकर जज बनना चाहती थी. उसका सपना यह भी था कि वह कानून के सिस्टम में शामिल होकर लड़कियों के अधिकारों के लिए कुछ काम कर सके. लेकिन अब 19 साल की नॉरा अपनी ही लड़ाई लड़ने के लिए मजबूर है. अपने सपनों की दुनिया में जी रही नॉरा जब 15 साल की थी तब उसके पिता ने उसकी शादी बड़ी उम्र के आदमी अहमद से तय कर दी. नॉरा ने शादी करने से इनकार किया तो ज़बरदस्ती की गई और उसकी एक न सुनी गई. नॉरा का परिवार एक कबीले का गरीब परिवार था और अहमद बड़े कबीले के दबंग परिवार से ताल्लुक रखता था. जबरन शादी किए जाने के दौरान नॉरा ने तय कर लिया था कि उसे इस दलदल में नहीं फंसना है. वह घर से भाग खड़ी हुई. नॉरा की मदद के लिए उसकी एक आंटी एमल आगे आई जिसने उसे सहारा दिया. एमल की मदद से नॉरा एक ऐसी जगह छुप गई जहां उसे कोई तलाश न सके. इधर, नॉरा की तलाश में उसका और अहमद का परिवार जुटा हुआ था लेकिन किसी को उसका सुराग नहीं मिला. एमल तक ये लोग ज़रूर पहुंचे लेकिन उसने नॉरा का पता चालाकी से छुपा लिया और अगले तीन सालों तक नॉरा छुप पाने में कामयाब रही. फिर 2017 में नॉरा को इन लोगों ने ढूंढ़ ही लिया. नॉरा को बेहद पीटा गया और प्रताड़ित किया गया. फिर अप्रेल 2017 में उसकी शादी जबरन अहमद से करवा दी गई. इसके बाद नॉरा को घर से भाग जाने की सज़ा मिलने का सिलसिला शुरू हुआ. इस घर में उसे कई तरह से प्रताड़ित किया जाता था. अहमद के सारे रिश्तेदार नॉरा को ताने देते और कभी हाथापाई होती तो कभी उसे भूखा रखा जाता. नॉरा ने अपनी तकलीफों के बारे में अपने पिता और घर में बताया तो उन्होंने कोई मदद न करने और हालात से समझौता करने को कहा. इस शादी के कुछ ही दिनों बाद अहमद ने नॉरा के साथ हनीमून पर जाने का प्लैन बनाया. नॉरा बहुत घबराई हुई थी और वह किसी ऐसे आदमी के साथ प्यार का रिश्ता बना ही नहीं सकती थी जिससे उसे नफरत हो चुकी थी. नॉरा को जबरन हनीमून पर ले जाया गया. अहमद के इरादे पहले से ही ठीक नहीं थे इसलिए उसने हनीमून के स्थान पर अपने रिश्ते के कुछ भाइयों को मौजूद रहने के लिए कह दिया था. हनीमून के दौरान अहमद ने नॉरा के शारीरिक शोषण का मन बना लिया था.Loading... हनीमून की पहली रात जब अहमद ने नॉरा के साथ सेक्स करना चाहा तो नॉरा ने मना किया. थोड़ी ज़बरदस्ती के बावजूद भी नॉरा काबू में नहीं आई तो अहमद ने मारपीट की लेकिन फिर भी नॉरा ने उसकी एक नहीं मानी. इसके बाद अहमद ने अपने उन भाइयों को बुलाया और नॉरा को काबू करने में उनसे मदद मांगी. अहमद के इन भाइयों ने नॉरा को काबू करने के लिए मापीट कर उसे पकड़ा और सबने मिलकर उसे जकड़ लिया. किसी ने नॉरा के पांव पकड़े तो किसी ने हाथ. अहमद के एक भाई के हाथ नॉरा की छाती और बाज़ुओं को जकड़े हुए थे. इसके बाद अहमद ने नॉरा के साथ बलात्कार किया और नॉरा रोती चीखती रही. बलात्कार के बाद सब नॉरा को वहीं छोड़कर चले गए. सबने सोचा कि अब इस ज़िद्दी लड़की की अकड़ खत्म हो जाएगी. इधर, नॉरा दुख से ज़्यादा गुस्से में थी और अपने साथ हुए इस अत्याचार के बारे में सोच रही थी. उसे घिन आ रही थी इस पूरे सिस्टम से क्योंकि कानून के हिसाब से पति को बलात्कार करने के लिए सज़ा नहीं हो सकती थी. लेकिन उसने मन बना लिया था कि वह अपने साथ यह अत्याचार और नहीं होने देगी, चाहे कुछ हो जाए. अगली रात अहमद फिर उसके कमरे में आया और नॉरा के साथ उसने फिर बलात्कार की कोशिश की. नॉरा का रूखा और इनकार करता हुआ चेहरा देखकर अहमद ने क्रूर हंसी के साथ कहा कि वह आज मानेगी या फिर पिछली रात की तरह वह सबको बुलाकर उसके साथ ज़बरदस्ती करे. इस पर नॉरा चुप रही और आंखें झुकाकर बैठी रही. अहमद उसके पास आकर बैठा और नॉरा के साथ हमबिस्तर होने के लिए अपने कपड़े उतारने लगा. एकाध मिनट बाद जैसे ही अहमद ने नॉरा के साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाने की कोशिश की, नॉरा ने तकिए के नीचे से धारदार चाकू निकाला और अहमद की पीठ में भोंक दिया. अहमद दर्द के साथ कराह उठा और नॉरा ने चीखते हुए उस पर चाकू से तब तक हमले किए जब तक वह मर नहीं गया. इसके बाद नॉरा वहां से भाग खड़ी हुई. कब तक भागती और भागकर कहां जाती? इसलिए अपने घर जाकर नॉरा ने अपने पिता और परिवार को पूरा किस्सा सुनाया तो बजाय हमदर्दी के, उसके पिता ने कोसते हुए कुछ ही देर में पुलिस के हवाले कर दिया.
नॉरा के लिए इंसाफ की मांग के अभियान ने सोशल मीडिया पर पकड़ा ज़ोर.
नारा बन गया 'जस्टिस फॉर नॉरा' यह सच्ची कहानी है अफ्रीका के सूडान की रहने वाली नॉरा की जिसे इसी साल पिछले दिनों अपने पति की हत्या के इल्ज़ाम में सज़ा ए मौत सुनाई गई. इसके बाद से कई संगठन, लोग और सोशल मीडिया नॉरा के समर्थन में और उसे इंसाफ दिलाने की वकालत करने सामने आए. कुछ दिनों बाद कानूनी अपील दायर हुई और नॉरा की मौत की सज़ा को बदलकर उसे 5 साल कैद की सज़ा सुनाई गई. 📢Breaking📢 Sudan has repealed the death penalty for 19-year-old Noura Hussein, who was sentenced for killing her husband, after he tried to rape her. Thank you to over 400,000 of you who demanded #JusticeForNoura & helped make this happen! pic.twitter.com/euzWQ4LuUX— AmnestyInternational (@amnesty) June 26, 2018 सूडान में कानूनी तौर पर 10 साल की बच्ची की शादी जायज़ है और मैरिटल रेप यानी शादी के बाद जबरन शारीरिक शोषण कोई जुर्म नहीं है. यूनाइटेड नेशन्स यानी संयुक्त राष्ट्र द्वारा लगातार इस सिस्टम को बदलने की सिफारिश की जा रही है. इस कहानी में नॉरा के अलावा बाकी नाम भले ही वास्तविक नहीं हैं लेकिन नॉरा की इंसाफ की लड़ाई अफ्रीका की कई लड़कियों का सच है बल्कि अफ्रीका ही नहीं, भारत समेत दुनिया के कई देशों में लड़कियां इस तरह के अत्याचारों से जूझ रही हैं. ये भी पढ़ें जिस बीवी के लिए बच्चे को अगवा किया, वो तो उसकी बीवी थी ही नहीं दोहरे हत्याकांड में कातिल को सज़ा हुई तब खुला फैमिली का डार्क सीक्रेट मनोरमा को बारी-बारी रौंदा जा रहा था, खिड़की से रोते हुए देख रही थी मां फ्रेंड के मर्डर के बाद उसे डर था उसका कत्ल होगा लेकिन मारा गया पति मां ने 72 साल के बेटे को गोली मारी, नब्ज़ देखी और आराम करने लगी Gallery - प्रेमिका के कत्ल के बाद फिल्म DRISHYAM की ट्रिक से तैयार किए झूठे सबूत