पीरियड्स के दौरान आपको भी होती है हैवी ब्लीडिंग, ये है वजह!

http://hindi.news18.com/news/lifestyle/recipe-cause-of-heavy-bleeding-in-periods-bgys-2410777.html
BYNews18Hindi Updated: September 11, 2019, 11:57 AM IST
महिलाओं के लिए पीरियड्स के वो 7 दिन काफी भारी होते हैं. ज़्यादातर लड़कियां और महिलाएं चाहती हैं कि किसी तरह बस ये सात दिन कट जाएं ताकि इस मुसीबत से छुटकारा मिले. इसकी वजह है कि पीरियड्स के दिनों में थकावट, क्रैम्प्स, ब्लॉटिंग और मूड स्विंग्स होना जिससे ज़्यादातर महिलाओं को दो चार होना पड़ता है. इस दौरान पूरे बदन में दर्द और ऐंठन बनी रहती है जो मानसिक परेशानी का भी कारण बनती है. कुछ महिलाओं को पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग भी होती है. आइए जानते हैं कि इसके पीछे क्या कारण जिम्मेदार हो सकते हैं. इस समस्या के पीछे कई वजहें जिम्मेदार हो सकती हैं. लेकिन कई बार आपके खानपान के तौर तरीकों में भी इसका राज छुपा हो सकता है. कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनका यदि आप जरूरत से ज्यादा सेवन करें तो आपको पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग की समस्या का सामना करना पड़ेगा. आइए जानते हैं इनके बारे में... इसे भी पढ़ें: जल्दी वजन बढ़ाने के लिए आज ही डाइट में शामिल करें ये 6 फूड आइटम्स शहद को कहें ना:शहद सेहत के लिए काफी फायदेमंद है और यह शरीर को गर्म रखता है. लेकिन पीरियड्स के दौरान किसी भी तरह से इसके सेवन से हैवी ब्लीडिंग की समस्या सामने आ सकती है. इसकी गर्म तासीर की वजह से पीरियड्स में ब्लड ज्यादा आ सकता है. चुकंदर से करें तौबा: हीमोग्लोबिन बरकरार रखने के लिए कई डॉक्टर्स चुकंदर खाने की सलाह देते हैं. यह सेहत के लिए अमृत के समान है. इसमें कैल्शियम, आयरन, विटमिन, पोटेशियम, फॉलिक एसिड और फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं. इसे खाने से शरीर में खून तेजी से बनता है. यही वजह है कि पीरियड्स के दौरान इसे खाने से हैवी ब्लीडिंग की समस्या होती है.Loading... इसे भी पढ़ें: केले के छिलके से बढ़ायें खूबसूरती, इस तरह करें इस्तेमाल कॉफी से करें किनारा: पीरियड्स पेन को कम करने के लिए कई लोग कॉफी पीने की सलाह देते हैं. लेकिन अगर आपको पीरियड्स के दौरान हैवी ब्लीडिंग होती है तो कॉफी के सेवन से आपको परहेज करना चाहिए. Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.