पाकिस्तान को बचाने के लिए इमरान खान ने उठाया PM मोदी की तरह सख्त कदम, दिया 30 जून तक का समय!

http://hindi.news18.com/news/business/latest-imran-khan-asks-citizens-to-declare-their-assets-by-june-30-know-in-hindi-2097055.html
BYNews18Hindi Updated: June 12, 2019, 6:01 PM IST
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान देश को आर्थिक तंगहाली से बचाने के लिए कड़े कदम उठा रहे है. इमरान खान ने पाकिस्तानी नागरिकों को अपनी बेनामी प्रॉपर्टी सार्वजनिक करने के लिए कहा है. इसके लिए 30 जून तक का वक़्त दिया है. अगर इसके बाद कोई पकड़ा जाता है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी. आपको बता दें कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने पहले कार्यकाल के दौरान सत्‍ता में आते ही  ब्‍लैकमनी पर नकेल कसने के तमाम बड़े कदम उठाएं. इसी के तहत नवंबर, 2016 में नोटबंदी जैसा कठोर फैसला लिया गया. इसी तरह बेनामी संपत्ति को लेकर भी सरकार ने सख्‍ती दिखाई. इस सख्‍ती का असर यह हुआ कि 6,900 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्‍त हुई हैं. बेनामी संपत्तियों और लेनदेन पर रोक लगाने के उद्देश्य से केंद्र सरकार ने बेनामी लेनदेन कानून में 2016 में संशोधन किया था. पाकिस्तान में शुरू हुआ कड़े फैसलों का दौर-पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ने सोमवार को देश के नाम संबोधन में कहा मुल्क को चलाने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं हैं इसलिए ज़्यादा से ज़्यादा पाकिस्तानी नागरिक टैक्स के दायरे में आएं. ये भी पढ़ें-पाकिस्तानी PM इमरान ने कहा- नहीं है देश को चलाने के लिए पैसे >> इमरान खान ने पाकिस्तानी नागरिकों को अपनी संपत्ति को सार्वजनिक करने के लिए 30 जून तक का वक़्त दिया है और कहा है इसके बाद फिर मौका नहीं मिलेगा. >> बेनामी संपत्ति के मामले में ही सोमवार को पाकिस्तान के नेशनल एकाउंटबिलिटी ब्यूरो ने पूर्व राष्ट्रपति आसिफ़ अली ज़रदारी को गिरफ़्तार किया है. >> पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा, हमने अपने खर्चों में 50 अरब रुपए की कटौती की है. कैबिनेट की 10 फ़ीसदी तनख़्वाहें कम की हैं. मुल्क मुश्किल में है. हम सबको मिलकर कुर्बानी देनी होगी.Loading... >> हम अपने लक्ष्य को हासिल करने में ज़रूर सफल होंगे. हम लोगों मसले दूर करेंगे. हम लोगों से ज़्यादा टैक्स लेंगे. ये भी पढ़ें-पाकिस्तान को लगा बड़ा झटका! सेना ने मजबूर होकर लिया ये बड़ा फैसला >> 30 जून के बाद जिनके पास भी बेनामी अकाउंट हैं वो जब्त किए जाएंगे. इसके पहले पाकिस्तानियों के पास मौका है कि सार्वजनिक कर दें.